• खांड और घी को आंवले के रस में मिलाकर उपयोग करने से वायु विकार नष्ट होते हैं।
• पेट में गैस भर जाने पर या उदर दर्द में तिलों को पीस कर उनमें कपूर, अजवायन, इलायची और काला नमक-सब चुटकी भर मिलाकर गुनगुने पानी के साथ सेवन करें इससे आराम मिलता है।
• सोंठ व जायफल का चूर्ण बनाकर लेते रहने से पेट में गैस की शिकायत से राहत मिलती है।
• अदरक का रस 6 ग्राम, नींबू का रस 6 ग्राम, शुद्घ मधु 6 ग्राम- इन तीनों को खूब मिलाकर दिन में चार बार चाटने से विशेष लाभ होता है।
• सहजन के फूल या फली की सब्जी पेट में गैस संचय की बीमारी में लाभदायक है।
• जीरा, कलौंजी और अजवायन तीनों को बराबर मात्रा में लेकर चूर्ण बनाकर लेने से पेट के वायु विकार दूर होती है और पाचन शक्ति बढ़ जाती है।
• यदि पेट में गैस बनकर ऊपर चढऩे की शिकायत हो तो एक गिलास गर्म पानी में चार-पांच काली मिर्च पीस कर मिलाएं और उसमें एक नींबू काट कर निचोड़ दें। नित्यप्रति उठते ही इसे पी जाएं। इससे पेट में गैस नहीं बनती है।
• पेट में वायु बनने पर 5-7 ग्राम हल्दी और नमक गर्म पानी के साथ सेवन करने से लाभ होता है।
-------------
मेरा हमेशा से यह प्रयास रहता है कि मैं अपने अनुभव को आपसे बांटू जिन्हें मैंने श्रेष्ठ संतों से प्रसाद स्वरूप पाया है हां मानना न मानना आपकी मर्जी है और Second Opinion लेना आापका अधिकार है, ये हमेशा याद रखें। परमात्मा से प्रार्थना करता हूं कि आप सुखी रहे और यह शोध आपके काम आए।


Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email