जिम में घंटों पसीना बहाने और डाइटिंग करने के
बावजूद भी अगर आप से छुटकारा पाने में सफल
नहीं हो पा रहें हैं। तो घबराने से अच्छा है कि दूसरे
विकल्पों का सहारा लें,
मानव शरीर पैर से लेकर सिर तक आपस में
जुड़ा हुआ है। शरीर में मौजूद नसें, रक्त धमनियां,
मांसपेशियां, स्नायु और हड्डियों के साथ अन्य कई
चीजें आपस में मिलकर शरीर रूपी इस मशीन
को बखूबी चलाती हैं। अत: किसी एक बिंदु पर दबाव
डालने से उससे जुड़ा पूरा भाग प्रभावित होता है।
आइए जानें शरीर के किस अंग की मसाज करने से
पेट की चर्बी कम करने में मदद मिलती है।
कानों‬ पर मसाज
प्रत्येक एक्यूप्रेशर सत्र की शुरुआत और अंत में
भूख नियंत्रण बिंदु को दबायें। अपने कान पर दबाव
बिंदु का पता लगाएं (जो भूख नियंत्रण बिंदु
होता है)। इस बिंदु को दबाकर भूख पर नियंत्रण
करना आसान होगा और आप ओवरईटिंग से बचेंगे।
इस बिंदु कान के ऊपर स्थित मांसल फ्लैप
हिस्सा होता है जो कान के केनाल के सामने मौजूद
होता है। 3 मिनट के लिए इस जगह पर लगातार
दबाव डालें। धीरे-धीरे प्रेशर बढ़ाएं और फिर छोड़
दें।
घुटनों‬ पर मसाज
घुटनों के बाईं ओर ठीक नीचे तीन बिंदु होते हैं जिन
पर दबाव देने से शरीर का मेटाबॉलिज्म ठीक
रहता है और शरीर में अतिरिक्त
वसा इकट्ठा नहीं होता है। इसके लिए एक-एक
करके इन पर बिंदुओं पर दबाव बनाएं और एक मिनट
तक इन बिंदुओं पर मसाज करें।
‪‎हथेली‬ की मसाज
हथेलियों में अंगूठे के पास वाले उभरे भाग पर
व्यक्ति की सहन क्षमता के अनुसार दबाव दें। इस
प्रक्रिया को तीन से पांच बार दोहराएं। इसके बाद
अच्छी मात्रा में गुनगुना पानी का सेवन करें जिससे
टॉक्सिन शरीर से निकल जाएं।
कंधे‬ की मसाज
अगर व्यक्ति को भूख अधिक लगती हो तो दाहिने
कंधे के मध्य भाग में हाथ की अंगुली व अंगूठे से
दिन में 2 बार लगभग आधा मिनट तक दबाव
देना चाहिए। लेकिन ध्यान रहे एक्यूप्रेशर के इस
प्रयोग को खाली पेट ना करें।
एड़ी‬ पर मसाज
एड़ी की हड्डी यानी एंकल बोन पर
अपनी चारों उंगलियों को रखें और धीरे-धीरे दबाव दें।
एक मिनट तक तेज दबाव दें और फिर धीरे-धीरे
छोड़ दें। इस मसाज से पाचन तंत्र ठीक रहता है।
शरीर के इन अंगों की मसाज करके आप न सिर्फ
अपनी भूख पर नियंत्रण कर सकते हैं बल्कि पाचन
क्रिया ठीक रख सकते हैं। सही खानपान व मसाज
से प्रतिमाह लगभग 2-3 किलो वजन कम
किया जा सकता है। हर दो माह में अपना वजन
जरूर कराएं।

Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email