लेकर कैंसर जैसे गंभीर रोग के इलाज में भी इसको प्रयोग किया जाता है।

लौंग के दो प्रकार की होते हैं, पहली तेज सुगंध वाली और दूसरी नीले रंग की। नीले रंग की लौंग का तेल मशीनों से निकाला जाता है। इस तेल की महक तेज होती है और स्वाद में यह साधारण लौंग से तीखी होती है। लौंग के तेल को औषधि के रूप में इस्‍तेमाल किया जाता है। इसका तेल त्वचा पर लगाने से कीड़े मर जाते हैं और दांत में लगाने से दांत दर्द में आराम मिलता है। इस लेख के जरिए हम आपको बताते हैं लौंग के फायदों के बारे में।
लौंग के फायदे
जिस लौंग से तेल निकाल लिया जाता है, वह ज्यादा फायदेमंद होती है।
लौंग दर्दनाशक होने के साथ ही कफ-पित्त नाशक भी होती है।
मितली आने और प्यास लगने पर लौंग का सेवन करना चाहिए।
पाचन क्रिया को भी सीधी सीधी प्रभावित करती है लौंग।
लौंग के सेवन से भूख बढ़ती है, इससे पाचक रसों का स्राव बढ़ता है।
यदि पेट में कीड़े हैं तो खाने में लौंग का सेवन राहत देता है।
लौंग को पीसकर मिश्री की चाशनी या शहद के साथ लेना भी लाभकारी है।
लौंग खाने से शरीर में श्‍वेत रक्‍त कण बढ़ते हैं, जिससे शरीर मजबूत होता है।
दमा रोग के इलाज में भी लौंग बहुत फायदेमंद है।
बीमारियों में लौंग के फायदे
किसी भी प्रकार की त्वचा संबंधी समस्‍या होने पर लौंग का प्रयोग किया जा सकता है। त्वचा रोग होने पर चंदन के बूरे के साथ लौंग का लेप लगाने से फायदा होता है।
पेट में गैस होने पर एक कप उबलते हुए पानी में दो लौंग पीसकर डालें। उसके बाद पानी ठंडा होने के बाद पी लीजिए, पेट की गैस खत्‍म हो जाएगी।
दांतों में दर्द होने पर नींबू के रस में दो से तीन लौंग को घिसकर लगा लीजिए, दांत दर्द में राहत मिलेगी।
लौंग को हल्का भूनकर चबाने से मुंह की दुर्गंध खत्‍म हो जाती है।
मुंह में छाले होने पर लौंग चबाने से फायदा होता है।
लौंग पीसकर गर्म पानी के साथ खाने से जुकाम और बुखार ठीक होता है।
गर्दन में दर्द या फिर गले में सूजन होने पर लौंग को सरसों के तेल के साथ मालिश करने पर दर्द खत्‍म हो जाता है।

Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email