आज हम बात कर रहे हैं ,,,,पथरी पर जो आज कल एक सामान्य समस्या है शरीर अधिक मात्रा में कलशियम् जैसे तत्वो के ज़मा होने की समस्या ही पथरी है|
लक्षण- पेशाब मे रुकावट बार बार पेशाब होना कभी कभी पेशाब मे जलन दर्द पेशाब के साथ खून आना ...ये सामान्य लक्षण है|
आइए जाने कुछ होम्ेओपेथिक निदान
1- पथरी की मूल दवा और जब गुर्दे मे असहनीया दर्द बार बार पेशाब की इच्छा, दर्द जो एक तरफ से दूसरी तरफ
जाए खास कर जब दर्द बाई(लेफ्ट) तरफ हो------------------------------------------------BERBERIS VULGARIS Q(10-10 बूँद तीन बार दे )
2- पेशाब गहरे लाल रंगा का हो पेट मे काफ़ी गैस हो दर्द दाई तरफ हो साय 4-8 बजे रोग के लक्षणों मे वृद्धि हो
पेशाब ज़ोर लगाने पर बूँद-बूँद आए-------------------------------------------------Lyco-30 (सुबह दोपहर)
3- पेशाब के आने में असहनीया दर्द, खड़े हो कर पेशाब आसानी से हो बैठने पर नहीं पेशाब करने के बाद बहुत
अधिक दर्द, गर्म खाने से तकलीफ़ बढ़े, पेशाब मे रेत का चूरा जैसा आए -------- SARSAPARILLA Q (10-10 बूँद तीन बार)
4- गुर्दे मे सूजन तेज़ काटने -फटने जैसा दर्द पेशाब मे मुस्किल, पेशाब की जगह ब्लड आए बार बार पेशाब आए
साथ ही मूत्र मार्ग गुर्दे पेट मे काफ़ी तेज़ जलन हो ----------------------------------- CANTHARIS-30 तीन बार
ये कुछ खास होमीयो दवा हैं ..जिसमे ,,बार वाल क्यू..मुख्या है अन्या और भी दवाएँ है जो अलग अलग लक्षणों पर ,,,,अप्लाइ होती है
परहेज- दूध से बनी चेज़े ,पत्ते वाली सब्जी टमाटर आदि


Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email