ग्रीष्म ऋतु की उष्णता को नष्ट करने और बार-बार लगने वाली प्यास को शांत करने के लिए गुणकारी शर्बतों का ही सेवन किया जाना चाहिए। शर्बत बाजार से भी खरीदे जा सकते हैं और घर पर भी बनाए जा सकते हैं। इन शर्बतों में मुख्य रूप से अनार का शर्बत है। अनार पित्त प्रकोप, अरूचि, अतिसार, पेचिश, खांसी, नेत्रदास, छाती की जलन और व्याकुलता दूर करता है।
१. वेदाना अनार से शर्बत --
अनार खाने और उसका रस पीने से शरीर को बहुत शीतलता मिलती है। अनार का शर्बत ग्रीष्म ऋतु की उष्णता को नष्ट करके प्यास की उग्रता को भी शांत करता है। इससे थकावट का भी निवारण होता है। यह दीपन-पाचन भी होता है और पाचनक्रिया को तीव्र करता है।
इसके लिए एक किलो अनार के रस को देर तक आग पर पकाकर गाढ़ा़ बनाते हैं। जब आधा रस शेष रह जाता है, उसमें 500 ग्राम जल और 2 किलो चीनी मिलाकर आग पर पकाएं। जब शर्बत बन जाए, तो आग से उतार कर शीतल हो जाने पर कपडे़ से छानकर कांच की बोतलों में भर कर रखें। इस शर्बत में खाने वाला तरल गुलाबी रंग ओर अनार का ऐशन्स भी मिलाया जा सकता है। 30 से 50 ग्राम अनार के शर्बत में जल मिलाकर सेवन करने से शरीर को शीतलता मिलती है।
२. अनन्नास का शर्बत -
यह मूत्रल, कृमिघ्न और पित्तशामक है। इसके सेवन से रक्त विकार तथा सूर्य की गर्मी से उत्पन्न होने वाले दोष दूर होते हैं। यह लू लगने तथा अन्य गर्मी से उत्पन्न रोगों को मिटाता है। अनन्नास में पेप्सिन नामक पाचक तत्व होता है। अनन्नास के शर्बत से ग्रीष्म ऋतु में लू के प्रकोप से सुरक्षा होती हैं।
अनन्नास का शर्बत बनाने के लिए अनन्नास का रस 500 ग्राम मात्रा में लेकर एक किलो चीनी लेकर आग पर पकाएं। शराब बनाते समय अदरक का 200 ग्राम रस मिलाते हें। एक तार की चाशनी बनने पर शर्बत को आग से उतार कर ठण्डा होने पर 10 ग्राम पिसा हुआ काला नमक और काली मिर्च का 10 ग्राम चूर्ण मिलाकर छानकर बोतलों में भरकर रखें। इस शर्बत में 20 ग्राम साइट्रिक अम्ल मिलाने से शर्बत कई महीने तक फ्रिज में सुरक्षित रख सकते है।

४.गुलाब का शर्बत--
गुलाब के फूल, लघु, मधुर, रोचक, मधुर विपाक, शीतवीर्य और हृदय को हितकारी होते है। यह मस्तिष्क दौर्बल्य को दूर करते हें।
गुलाब का जल एक किलो और चीनी ढाई किलो आग पर पका कर रखें। आग में पकाते समय थोड़ा सा साइट्रिक अम्ल (नीबू का सत) भी मिला लें। इस शर्बत को छानकर खाने वाला गुलाबी तरल रंग भी मिलाया जा सकता है। गुलाब की सुगन्ध मिलाने से शर्बत अधिक सुगन्धित हो जाता हैं।
20 ग्राम से 50 ग्राम तक शर्बत जल मिलाकर दिन में कई बार सेवन कर सकते है। इस शर्बत से ग्रीष्म ऋतु में प्यास की अधिकता नष्ट होती है। शरीर की उष्णता नष्ट होने से पसीने कम आते है। शरीर की थकावट, ग्लानि, भ्रम, मन की अस्थिरता और मूत्र की जलन मिटती है। गुलाब का शर्बत सेवन करने से ग्रीष्मऋतु में नेत्रों की जलन ओर लालिमा नष्ट होती है।

Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email