● सकारात्मक सोच ऐसा कोई वरदान नहीं है जो सिर्फ उन गुरुओं के पास होता है जो जीने का तरीका सिखाते हैं। यह हर एक के द्वारा अपनाया जा सकता है। आजकल लोगों में निराशावादी विचारधारा का बीज आसानी से पनप जाने से सकारात्मक सोच एक आसरे की तरह काम करता है जिसका आप सहारा ले सकते हैं। यहाँ पर कुछ सुझाव दिए गए हैं जिसके फलस्वरूप आप सकारात्मक सोच वाले व्यक्ति बन सकते हैं।
ऐसे लायें सकारात्मक सोच
1. अपने रवैये पर नियंत्रण रखें: कई बार आपका यह प्रण करना कि आप कुछ नकारात्मक नहीं सोचेंगे और अपने आस पास फैली नकारात्मकता पर विजयी होंगे, जिंदगी को देखने के आपके नज़रिए को एक नयी दिशा देता है। लोग हमेशा दूसरों को अपनी जिंदगी चलाने का मौका देकर सबसे बड़ी गलती करते हैं। आपको हर हालत में ऐसा करने से बचना चाहिए और अपने जीवन से जुड़े सारे महत्वपूर्ण फैसले खुद लेने चाहिए।
2. ध्यान करें:
वैज्ञानिक मानते हैं कि ध्यान के वक़्त, जब दिमाग किसी विशेष विचार की ओर केन्द्रित रहता है तो उससे उर्जा बिखरती है। यह उर्जा इंसान के अन्दर मजबूती लाती है जिससे वह आम जीवन में कठिन परिस्थितियों का मुकाबला करने में सक्षम होता है। हर दिन कम से कम 10 मिनट तक ध्यान लगाने की कोशिश करें। किसी अँधेरे कमरे का चुनाव करें जहाँ बाधाएं न हों और आँखें बंद कर गहरी सांस लें। अपने दिमाग में से सारे विचार निकाल दें। शुरुआत में यह प्रक्रिया मुश्किल लगेगी पर अभ्यास से यह काफी आसान हो जाएगा।
3. सकारात्मक सोच वाले व्यक्तियों से मिलें:
इस जगत में हर एक इंसान के पास किसी भी विषय को लेकर अपनी एक विचारधारा होती है। सकारात्मक विचारधारा वाले व्यक्तियों से मिलने से आपकी सोच और उद्देश्य भी सकारात्मक तरीके से आगे बढ़ेंगी, जबकि नकारात्मक सोच रखने वाले लोग आपकी जिंदगी से सकारात्मकता को निकाल देते हैं। ऐसे लोगों के साथ रहे जो आपको सकारात्मक वाईब्स देते हों। आपको अपने आप में परिवर्तन ज़रूर महसूस होगा।
4. अपने लक्ष्य पर टिके रहें:
अपना लक्ष्य अपनी दिली अभिलाषा के अनुसार ही चुनें। उसपर हमेशा टिके रहे चाहे वह कितना ही मुश्किल क्यों न दिखे। उनपर विश्वास करना और उनको पाने के लिए मेहनत करना सीखें। दुनिया को आपको देने के लिए कई नए दृष्टीकोण हैं और इनको अगर आप खुले दिमाग और आशावादी सोच रखते हुए अपनाएंगे तो आपकी जिंदगी बदल जायेगी। कड़ी मेहनत करें और अपने लक्ष्य की तरफ हर दिन एक कदम आगे बढायें। एक बार आपने इसे पा लिया तो आप नए जोखिम उठाने की चुनौती ले पायेंगे। हर छोटे या बड़े लक्ष्य को पाने के बाद आपमें अपनी क्षमता को लेकर आत्मविश्वास आएगा।
5. अपनी मानसिक रचना में बदलाव लायें:
किसी भी परिस्थिति में आपकी प्रतिक्रिया कैसी होती है यह आपकी सोचने की शक्ति में अंतर ला सकता है। किसी कठिन परिस्थिति में सकारात्मक प्रतिक्रिया देना उस परिस्थिति को आसान बना देता है और आप आसानी से उससे उबर पाते हैं, जबकि नकारात्मक विचारधारा से मुश्किल ज़रुरत से ज्यादा बड़ी दिखती है। आपके सोचने के तरीके में बदलाव से आप दुनिया को नए नज़रिए से देख पायेंगे और आप देख पायेंगे कि दुनिया कितनी सुन्दर है जिसकी आजतक आपने कल्पना भी नहीं की थी।
6. अपने स्वभाव पर सवाल उठाएं ??
: किसी भी बदलाव का प्रतिरोध करना इंसान की फितरत में शामिल होता है। पर जब आप अपने आप पर सवाल उठाएंगे कि आखिर इस प्रतिरोध का मकसद क्या है, आपको अपने आप मुश्किल इतनी बड़ी नहीं दिखेगी जितना आपने सोच रखा था। इसलिए अपने मकसद पर सवाल उठाना आपके रक्षात्मक स्वभाव को कम करेगा और आपको संभावनाओं को देखने की शक्ति देगा ताकि आपका अनुभव बढ़ सके।
आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि सकारात्मक सोच सकारात्मकता लाती है जबकि प्रतिकूल सोच रखने वाले नकारात्मकता को अपने पास बुलाते हैं। इसलिए सकारात्मक सोच कर आप अपने आप को नयी संभावनाओं के लिए खुला रख रहे हैं और अपनी जिंदगी जीने योग्य बना रहे हैं।

Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email