● सब्‍जियों को जब उबाल कर खाया जाता है, तो उनकी ताकत दोगुनी बढ़ जाती है। कुछ सब्‍जियां जैसे, पालक, गाजर, शकरकंद और पत्‍तागोभी आदि का स्‍वाद और पोषण तभी निखरता है जब इन्‍हें उबाल कर खाया जाए। कुछ सब्‍जियों को उबाल कर और कुछ को आंच पर पका कर ही उनमें मौजूदा पोषण को दोगुना किया जा सकता है।
अगर आप नीचे दी हुई इन सब्‍जियों को हफ्ते में दो बार उबाल कर खाएंगे तो आपका मोटापा बहुत जल्‍दी घटेगा। आप चाहें तो इन उबली सब्‍जियों को सलाद में मिक्‍स कर के खा सकते हैं।
1) गाजर प्‍लेन पानी में मुठ्ठी भर गाजर काट कर डालें। इसमें एक चुटकी नमक और थोड़ी सी काली मिर्च मिक्‍स करें। फिर इसे उबाल कर खाएं, यह आपकी आंखों के लिये काफी पौष्टिक होगी।
2) चुकन्‍दर
खून की कमी और पीरियड्स की समस्‍या को दूर रखने के लिये दिन में एक चुकन्‍दर उबाल कर खाना चाहिये। चुकन्‍दर को 3 मिनट से ज्‍यादा नहीं उबालना चाहिये।
3) आलू
जब भी आप आलू खाएं तो उसे उबाल कर ही खाएं क्‍योंकि उसमें कम कैलोरीज़ होती हैं।
4) बींस
बींस को कम से कम 6 मिनट तक उबालें। फिर उसमें चुटकी भर नमक और काली मिर्च मिलाएं। उबली हुई बींस मधुमेह के लिये अच्‍छी होती है।
5) पालक
वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर हरी पत्‍तेदार सब्‍जियों को उबाल कर खाया जाए तो उसकी ताकत दोगुनी बढ़ जाती है। खास तौर पर मेथी और पालक की सब्‍जियां।
6 स्‍वीट कार्न
स्‍वीट कार्न को उबालने में काफी पानी और समय लगता है। पर इस को हम बिना उबाले खा भी नहीं सकते। स्‍वीट कार्न में पोषण और ढेर सारे रेशे होते हैं जो कि कब्‍ज को दूर रखता है।
7) शकरकंद
शकरकंद में काफी सारा कार्ब होता है जो कि शरीर के लिये बेहद जरुरी है। अगर आप डाइटिंग पर हैं तो शकरकंद खाएं।
8) फूल गोभी
भाप में पकी हुई फूल गोभी काफी पौष्‍टिक मानी जाती है। ऐसा करने पर इसमें मौजूदा न्‍यूट्र्रियन्‍ट्स और विटामिन्‍स नष्‍ट नहीं हो पाते।
9)पत्‍ता गोभी
पत्‍ता गोभी जब उबाल कर खाई जाती है, तो उसका टेस्‍ट और भी ज्‍यादा बढ़ जाता है। उबालने के लिये जिस पानी का उपयोग किया गया हो, उसा प्रयोग कर लेना चाहिये क्‍योंकि इसमें सबसे ज्‍यादा पोषण होता है।
10) ब्रॉकली
ब्रॉकली को उबाल कर खाने में ज्‍यादा टेस्‍ट मालूम पड़ता है। अगर आपको यह डिश सादी ही खानी हो तो उबालते समय इसमें थोड़ा सा ऑलिव ऑयल मिला लें।

Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email