● दिमाग में हर वक्त चलती उथल-पुथल व असामंजस्य के कारण तनाव पैदा होता है, लेकिन तनाव से मुक्त होने के लिये दवाओं की मदद लिये बिना भी कई तरह के उपचार के विकल्‍प हैं, इनका साइड-इफेक्‍ट नहीं होता।
1) डिप्रेशन के प्राकृतिक उपचार
आज जिस तरह की जीवनशैली हम जी रहे हैं उसमें तनाव हमारी व्यस्त जीवन शैली का एक हिस्सा बन गया है। दिमाग में हर वक्त चलती उथल-पुथल व असामंजस्य के कारण तनाव पैदा होता है। तनाव एक प्रकार का द्वन्द है, जो मन एवं भावनाओं में गहरी दरार पैदा करता है। लेकिन तनाव से मुक्त होने के लिये जरूरी नहीं कि आप दवाओं की मदद लें, इसके लिए दूसरे प्राकृतिक विकल्‍प भी मौजूद हैं जिनका साइड-इफेक्‍ट नहीं होता है।

2) बागवानी
बागवानी करने और पेड़ पौधे लगाने से आप प्रकृति के नजदीक आते हैं। प्रकृति के साथ वक्त कम गुजारने पर हमें तनाव हो सकता है। जब हम बाहर खुले में घूमते हैं, पौधों में पानी देते हैं, पेड़ों पर लगने वाले फूलों और फलों को देखकर हर्शित होते हैं तो प्राकृर्तिक रूप से रिलैक्स महसूस करते हैं।
3) किताब पढें
तनाव दूर करने के लिए किताब पढ़ना एक पुराना व असरदार तरीका होता है। यदि आपके पास अच्छी किताबों का कलेक्शन है तो आपको तनाव से बचने में मदद मिलती है। अच्छी किताब पढ़ें, अपना ज्ञान बढ़ाएं और खुद को नई उर्जा से सरोबार करें।
4) रोजाना योग और व्यायाम करें
योग आपके शरीर को लचीला बनाता है जिससे आपके शरीर की मांसपेशियां रिलैक्स होती हैं और तनाव से राहत मिलती है। वहीं व्यायाम करने से शरीर में सेरोटोनिन और टेस्टोस्टेरोन हार्मोन्स का स्राव होता है जिससे दिमाग स्थिर होता है और अवसाद पैदा करने वाले बुरे विचार दूर होते हैं।
5) रसोई में हाथ आजमाएं
यदि आपको खाना बनाना आता है तो यह हुनर न सिर्फ आपकी भूख मिटाएगा बल्कि तनाव को दूर करेगा। खासतौर पर तब जब पूरे दिल से आप किसी के लिये खाना बनाते हैं और वो इंसान आपका खाना खाते हुए आपकी तारीफ के पुल बांधता है तो मानो सारे गम झट से दूर हो जाते हैं।
6) म्यूज़िक थेरेपी
जब आप तनाव में हों तो सबसे अपने पसंद का संगीत सुनें। संगीत दिमाग को आराम पहुंचाता है और आपको टेंशन फ्री करता है। यह आपको नकारत्म और तनाव देने वाली सोच से दूर ले जाता है, जो कि टेंशन देते हैं और एक इंस्टेंट स्ट्रेस बस्टर कि तरह काम करता है।
7) डायरी लिखें
लिखना भी तनाव दूर करने का एक बेहतरीन तरीका है। जब आप पर्सनल डायरी या शोर्ट स्टोरी लिखते हैं तो जो आपके दिमाग में चल रहा है वह पेपर (या कंप्यूटर) पर उतर जाता है। इससे आपको अपनी समस्याओं को दूर करने का मौका मिलता है और आपकी कल्पनाशीलता भी बढ़ती है।
8) वॉक करें और गहरी सांस लें
वॉक करना सेहत के लिए लाभदायक होता है। सुबह-सवेरे जल्दी उठ कर किसी गार्डन में जाकर टहलने से मांनसिक शांती मिलती है और आप पूरे दिन तरोताजा महसूस करते हैं। इस समय चिडिया की चहक, ठंडी हवाएं और प्रकृती का स्पर्श आपके तनाव को छू मंतर कर देता है।
9) कुछ वक्त तारों के साथ
सोने से पहले कुछ मिनट निकाल कर अपने घर की बालकनी, छत या खिड़की से तारों को निहारें इससे मन को अच्छा लगेगा और आपका तनाव भी दूर होगा। आसमान को एक टक देखें और थोड़ी देर के लिये उसमें खो जाएं। जब मन शांत हो जाए तो आकर बिस्तर पर सो जाएं आपका तनाव दूर हो जाएगा और नींद भी अच्छी आएगी।
10) दोस्तों का साथ
अच्छे दोस्त आपको सहानुभूति प्रदान करते हैं, सकारात्मक ऊर्जा देते हैं और अवसाद के समय आपको सही निजी सलाह भी देते हैं। जरूरत के समय एक अच्छा श्रोता साथ होना नकारात्मकता और संदेह को दूर करने में बहुत मददगार होता है।
11) खुशबू
कुछ प्राकृतिक खुशबू वाली चीज़ें मन को बहुत सुख देती हैं। एक शोध में पाया गाया कि जो नर्स अपने कपड़े में सुगंध (परफ्यूम या इत्र) लगाती थी उन्हें तनाव से जल्दी राहत मिलती थी और जो नर्स सुगंध नही लगाती थीं, उन्हें खूशबू लगाने वाली नर्सों की तुलना में ज्यादा तनाव का सामना करना पड़ा। हल्की मनमोहक खुशबू आपके बड़े से बड़े तनाव को कुछ समय के लिए दूर कर सकती है।

Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email