कपालभाती प्राणायाम को जीवन की संजीवनी कहा जाता है।
कपालभाती प्राणायाम को हठयोग में शामिल किया गया है।
सांसों को अंदर-बाहर धक्का देना होता है, सांस लेने से बचें।
इससे चेहरे पर चमक आती है और शरीर निरोग रहता है।
● योग की हर क्रिया कारगर होती है, लेकिन बात जब कपालभाती प्राणायाम की होती है तो इसे जीवन की संजीवनी कहा जाता है। कपालभाती प्राणायाम को सबसे कारगर माना जाता है। कपालभाती प्राणायाम को हठयोग में शामिल किया गया है। योग के आसनों में यह सबसे कारगर प्राणायाम माना जाता है। यह तेजी से की जाने वाली एक रोचक प्रक्रिया है। दिमाग आगे के हिस्‍से को कपाल कहते हैं और भाती का अर्थ ज्योति होता है। कपालभाती प्राणायाम करने के सही तरीके और इससे होने वाले फायदों के बारे में हम आपको बताते हैं।
》कैसे करें यह आसान :-
कपालभाती प्राणायाम करने के लिए सिद्धासन, पद्मासन या वज्रासन में बैठकर सांसों को बाहर छोड़ने की क्रिया करें। सांसों को बाहर छोड़ने या फेंकते समय पेट को अंदर की तरफ धक्का देना है। ध्यान रखें कि सांस लेना नहीं है क्योंकि उक्त क्रिया में सांस अपने आप ही अंदर चली जाती है। कपालभाती प्राणायाम करते समय मूल आधार चक्र पर ध्यान केंद्रित करना होता है। इससे मूल आधार चक्र जाग्रत होकर कुं‍डलिनी शक्ति जागृत होने में मदद मिलती है। कपालभाती प्राणायाम करते समय ऐसा सोचना है कि हमारे शरीर के सारे नकारात्‍मक तत्व शरीर से बाहर जा रहे हैं।
》 इस आसन के फायदे :-
यह प्राणायाम आपके चेहरे पर कांति यानि चमक लाता है। इससे दांतों और बालों के सभी प्रकार के रोग दूर हो जाते हैं। शरीर की अतिरिक्‍त चर्बी कम होती है खासकर पेट की, यानी यह वजन कम करने में भी कारगर आसन है। इसे अलावा इसके नियमित अभ्‍यास करने से कब्ज, गैस, एसिडिटी जैसी पेट से संबंधित समस्या भी दूर हो जाती है।
कपालभाती प्राणायाम का सबसे ज्याद प्रभाव पड़ता है शरीर और मन पर, क्‍योंकि यह मन से नकारात्‍मक तत्‍वों को दूर कर सकारात्‍मकता लाता है। थायराइड, चर्म रोग, आंखों की समस्‍या, दांतों की समस्‍या, महिलाओं की समस्‍या, डायबिटीज, कैंसर, हीमोग्‍लोबिन का स्‍तर सामान्‍य करना, किडनी को मजबूत बनाने जैसे सभी तरह की समस्‍याओं को दूर करने की क्षमता होती है। यानी यह एक ऐसा आसन है जो सभी तरह की समस्‍याओं का उपचार करता है।
》 थोड़ी सावधानी :-
कपालभाती व्‍यायाम सभी आयु वर्ग के लोग कर सकते हैं, लेकिन जिन लोगों को सांस संबंधी समस्‍या हो उनको चिकित्‍सक की सलाह के बाद ही यह आसन करना चाहिए।
कपालभाती आसन एक ऐसा आसन है जिसमें सभी योगासनों का फायदा मिलता है। इसलिए इसे अपनी दिनचर्या बनायें और निरोग रहें।
》कपाल भाती प्राणायाम के लाभ
1) बालो की सारी समस्याओँ का समाधान
प्राप्त होता है|
2) चेहरे की झुरीयाँ,आखो के निचे के डार्क
सर्कल मिट जयेंगे|
3) थायराँइड की समस्या मिट जाती है|
4) सभी प्रकारके चर्म समस्या मिट जाती है|
5) आखो की सभी प्रकारकी समस्या मिट
जाती है,और आखो की रोशनी लौट आती है|
6) दातों की सभी प्रकारकी समस्या मिट
जाती है, और दातों की खतरनाक
पायरीया जैसी बीमारी भी ठीक
हो जाती है|
7) कपालभाती प्राणायाम से शरीर
की बढी चर्बी घटती है, यह इस
प्राणायाम का सबसे बडा फायदा है|
8) कब्ज, सीडिटी, गँस्टीक जैसी पेट
की सभी समस्याएँ मिट जाती हैं |
9) युट्रस(महीलाओ) की सभी समस्याओँ
का समाधान होता है|
10) डायबिटीस संपूर्णतया ठीक होता है|
कोलेस्ट्रोल को घटाने में भी सहायक है|
सभी प्रकार की एलरजियाँ मिट
जाती है|
11) सबसे खतरनाक कँन्सर रोग तक ठीक
हो जाता है ।
12) शरीर में स्वतः हिमोग्लोबिन तैयार
होता है|
13) शरीर मे स्वतः कँल्शीयम तैयार होता है|
किडनी स्वतः स्वच्छ होती है, डायलेसिस
करने की जरुरत नहीं पडती

Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email