नीम के बारे में कौन नहीं जानता नीम अपने आप में इतने गुण समेटे है कि जिनका वर्णन नहीं किया जा सकता है लेकिन यहां हम आपको नीम के कुछ बेहद खास गुणों से परिचित करा रहे हैं।
सालों से नीम के पत्तों का विभिन्न पारंपरिक और आयुर्वेदिक दवाओं में इस्तेमाल किया जाता रहा है। कुछ ऐसे तरीके जिनसे आप आम और गंभीर बीमारियों से राहत के लिए नीम के पत्तों का उपयोग कर सकते हैं।
1-नीम की पत्तियां हमें फंगल संक्रमण से बचाती हैं जोकि हमें बुरी तरीके से परेशान करता है आंतों में संक्रमण के लिए एथलीट फुट, दाद के इलाज में नीम का प्रयोग प्रभावी तरीके से किया जा सकता है। साथ ही मुंह, योनि और त्वचा के संक्रमण से भी नीम हमें छुटकारा दिलाती है।
2-नीम की पत्तियां हमें वैक्टीरियल इंफेक्शन जो अक्सर Staphylococcus बैक्टीरिया के कारण होते हैं खासतौर पर दंत रोगों के कारण विषाक्त भोजन या पेट में संक्रमण के माध्यम से जो वैक्टीरियल इंफेक्शन होता है उससे लड़ने में नीम का योगदान बेहद खास है।
3-नीम की पत्तियों में एंटीवायरल गुण पाया जाता है जो वायरल रोगों जैसे चिकन पॉक्स और फाउल पॉक्स से लड़ने में सालों से कारगर है।
4- और तो और दांतो के रोगों से लड़ने में तो नीम का जबाब ही नहीं ना केवल भारत बल्कि अफ्रीका में सालों से नीम का इस्तेमाल टूथपेस्ट में होता आ रहा है।
5- ये भी खासा अहम है कि नीम का प्रयोग चिंता और तनाव घटाने में भी किया जाता है हांलाकि ये इतना पापुलर नहीं है लेकिन नीम पर हुए तमाम शोधों में ये साफ हुआ है कि नीम का प्रयोग चिंता घटाने में कारगर है।
6- HIV के मरीजों के लिए भी नीम काफी उपयोगी है ये एचआईवी से पीड़ित मरीजों की प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा करती है साथ ही ये एचआईवी के इलाज में मल्टीड्रग का काम भी करती है।
7- और आपके शरीर का अहम हिस्सा आपकी त्वचा, नीम का इस्तेमाल त्वचा से जुड़ी तमाम दिक्कतों जैसे कि मुहांसे ,रंजकता, चकत्ते, आघात और अन्य त्वचा की समस्याओं से निपटने में काफी प्रमुखता से किया जाता है।

Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email