आंख हमारे शरीर का सबसे अधिक आकर्षण वाला हिस्सा ही नहीं, बल्कि सबसे उपयोगी अंग भी है। इसका सिर्फ खूबसूरत होना तबतक मायने नहीं रखता जबतक कि आपके आंखों की रोशनी भी सलामत न हो, क्योंकि ऐसा नहीं हुआ तो या तो आपकी खूबसूरत आंखों को चश्मे के मोटे-मोटे फ्रेम की नज़र लग जाएगी या फिर लेंस लगाने के झंझटों में फंसे ही रहेंगे।


आज इण्टरनेट का युग है टी.बी,मोबाइल, लेपटाप व अन्य डिवाइसों के बिना रहना अगर असम्भव नही तो कठिन अवश्य है।
हम जानते है कि आँखें हमारे शरीर का ही अंग हैं और उनकी रोशनी कम होने का मतलव है कि आपके शरीर में कमजोरी आ गयी है।और शरीर की कमजोरी बनती हैआपके पेट से अगर आपका पेट साफ रहता है तो रोग आपके आस पास भटकेगा भी नही |

अतः आँखों का इलाज करने से पहले आपका पेट साफ होना चाहिए।


सामान्य उपाय ---
1- Early to bed & Early to rise
makes a man healthy wealthy & wise.
के अनुसार जल्दी सोयें जल्दी जागें ।
2-उठते ही रात में रखा हुआ ताँवे के वर्तन का जल प्रतिदिन पियें।
3- भोजन हमेशा ताजा व पालथी लगाकर ही करें।
4- रोजाना टहलने जरुर जाएं।
5- 10 ग्राम गुलकन्द दूध के साथ लें

नेत्र ज्योति वर्धक उपाय
रात को दो गिलास पानी को एक वर्तन में ले लें तथा एक मुठठी आँवला उसमें डाल कर फूलने रख दें ध्यान रखें आँवलों को पहले साफ कर लें।सुवह को आँवलों को मसल कर यदि ठण्ड का समय है तो आँवलों के पानी को थोड़ा कुनकना कर लें वाद में मसलें तथा छान लें एक चुटकी मेथी दाना मुँह में डाल कर आधा पानी पी जाऐं।वाकी पानी से आँखें धो लें।इस नुस्खे से आँखो की रोशनी भी बढे़गी साथ ही साथ कब्ज भी दुर होगी |

प्राणायाम :
प्राणायाम आंखों की रोशनी को सही और आपके मानसिक स्वास्थ्य को भी बनाए रखता है।इसे करने के लिए आप सबसे पहले ध्यान की मुद्रा में बैठ जाएं। अपने दोनों हाथों को घुटनों पर रखें और पीठ सीधी रखें। अब आंखें बंद रखकर लंबी सांस लें और फिर छोड़ें। इस क्रिया को लगातार करें। 

अपनी हथेलियों को आपस में रगड़ लें और गर्म हाथों को तेजी से आंखों पर रखें। ऐसे करने के बाद कुछ पल के बाद हाथ हटाएं और फिर धीरे-धीरे अपनी आंखें खोलें। ऐसा करें तो आपकी आंखें भी हर पल आपका साथ देंगी।
नज़र को ज़रा दूर दौड़ाएं

इसके लिए कोई ऐसा केन्द्र चुनें जो आपकी नज़र में सबसे दूर मौजूद हो। अब उसे ध्यान से देखने की कोशिश करें और तकरीबन 5-7 मिनट तक ऐसा जरूर करें। ऐसा रेग्युलर करते रहने से आंखों को रोशनी बढ़ती है।
बीच-बीच में अपनी पलकें झपकाएं

आंखें थक जाए तो बीच में रुकिए और कुछ सेकंड तक अपनी पलकें लगातार झपकाएं और फिर तेजी से बंद कर लें और फिर थोड़ी देर बाद खोलें। समझिए, आपको आंखों को रिफ्रेशमेंट मिल गया।

इसके अलावा रात में खुले आसमान के नीचे रहने का मौका मिले तो एकटक से चांद-सितारों को देखने की कोशिश करें। सूर्य और ऐसे किसी चीज पर नज़र गड़ाने की कोशिश न करें जिससे तेज रोशनी निकल रही हो।
नाक की तरफ अपनी दोनों आंखों को फोकस करें और उसके कुछ पल बाद किसी अन्य वस्तु पर नज़र फोकस करें। यह एक्सरसाइज़ सुबह सवेरे कम से कम 10 बार करें तो आंखों को फायदा होगा।

इसके अलावा काम के बीच-बीच में आंखों को गोलाकार करके घुमाएं। पहले घड़ी की दिशा में घुमाएं और फिर तीन-चार राउंड के बाद घड़ी के विपरीत दिशा में घुमाएं। आप इसे ऊपर-नीचे या बाएं-दाएं भी घमा सकते हैं।

Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email