शायद आप इस बात से अनजान ही होंगे कि जिस कड़ी पत्ता, हल्दी, दालचीनी, सौंफ आदि चीजों को खाना बनाने के लिए इस्तेमाल करते हैं उनसे बनने वाले तेल जिनको एसेंशियल ऑयल कहते हैं उनके सौन्दर्य और स्वास्थ्यवर्द्धक फायदों भी हैं। ये तेल बालों का झड़ना कम करने के साथ-साथ डिप्रेशन, जोड़ो का दर्द, बदहजमी जैसे तरह-तरह के समस्याओं पर जादु जैसा काम करता है।

दालचीनी का तेल
यह तेल ब्रेन के फंक्शन को बढ़ाने के साथ नर्वस के स्ट्रेस कम करने और याददाश्त दुरुस्त रखने में सहायता करता है।

मोगरे का तेल
मोगरे का तेल मेंटल और इमोशनल प्रॉबल्म पर असरदार रूप से काम करता है इसलिए डिप्रेशन, स्ट्रेस, गु्स्सा और डर जैसे समस्याओं से निजात दिलाने में मदद करता है। इसका एन्टी बैक्टिरीयल गुण इंफेक्शन होने के संभावना को कम करता है। इसके ऐंठनरोधी गुणों के कारण ये मसल्स, ब्लड वेसल के तनाव को दूर करता है।

सौंफ का तेल
अगर आपको अधिकतर बदहजमी की समस्या के कारण पेट या सीने में दर्द होता है इस तेल का जादू इस समस्या पर ज़रूर चलेगा। सौंफ का तेल समय पूर्व रजोनिवृत्ति या प्रीमेनोपोज़ की समस्याएं दर्द, चक्कर आना या मूड स्विंग्स जैसे समस्याओं से राहत दिलाने के साथ पिरियड के रूकने जैसे समस्याओं से जूझने वाली महिलाओं को राहत प्रदान करने में सहायता करता है।

कड़ी पत्ते का तेल
अगर आपको बालों संबंधी कई तरह की समस्याएं हैं, जैसे बालों का झड़ना, असमय सफेद होना, बालों का नैचुरल रंग बरकरार रखना आदि तो ये तेल इस संदर्भ में असरदार रूप से काम करेगा। साथ ही छाछ या जूस में इस तेल का एक बूंद डाल देने से पेट संबंधी समस्याओं से भी कुछ हद तक राहत मिलता है।

लोबान का तेल (फ्रेंकिन्सेंस ऑयल)
लोबान का तेल जोड़ों के दर्द से राहत दिलाने में असरदार रूप से काम करता है। अगर आपको एसिडिटी, बदहजमी, बेचैनी की समस्या ज्यादा होती है इस तेल का इस्तेमाल करें। फोड़े या किसी भी तरह से शरीर में दाग पड़ने में उस पर ये तेल लगाने से दूर होता है। अगर आपको ज्यादा पसीना आता है तो इस तेल का इस्तेमाल करना न भूलें।

हल्दी का तेल
वैसे तो हल्दी का इस्तेमाल हर डिश को बनाने के लिए किया जाता है लेकिन हल्दी तेल का एन्टी इनफ्लैमटोरी को अगर जोड़ों के दर्द या अर्थराइटिस के दर्द के समय इस्तेमाल किया गया तो जल्द आराम दिलाने में मदद करता है। इस तेल में एआर टर्मीरोन नाम का यौगिक रहता है जो लीवर को हेल्दी रखने के साथ-साथ फोड़ों या घाव को ठीक रखने में मदद करता है।


Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email