मुनक्कों से तो हम सब  परिचित   हैं | इसकी प्रकृति गर्म होती है | इसका प्रयोग करने से प्यास शांत हो जाती है व यह गर्मी और पित्त को ठीक करता है | यह पेट और फेफड़ों के रोगों में भी बहुत लाभकारी है | आज हम जानेंगे मुनक्कों से विभिन्न रोगों का उपचार ---------

1) - 10 -12 मुनक्के धोकर रात को पानी में भिगो दें | सुबह को इनके बीज निकालकर खूब चबा -चबाकर खाएं , तीन हफ़्तों तक यह प्रयोग करने से खून साफ़ होता है तथा नकसीर में भी लाभ होता है |

2) - 5 मुनक्के लेकर उसके बीज निकल लें , अब इन्हें तवे पर भून लें तथा उसमें कालीमिर्च का चूर्ण मिला लें |  इन्हें कुछ देर चूस कर चबा लें ,खांसी में लाभ होगा |

3) -  बच्चे यदि बिस्तर में पेशाब करते हों तो उन्हें 2 मुनक्के बीज निकालकर व उसमें एक-एक काली मिर्च डालकर रात को सोने से पहले खिला दें , यह प्रयोग लगातार दो हफ़्तों तक करें , लाभ होगा |

4) -   पुराने बुखार के बाद जब भूख लगनी बंद हो जाए तब 10 -12  मुनक्के भून कर   सेंधा नमक व कालीमिर्च मिलाकर खाने से भूख बढ़ती है |

5) -  यदि  किसी को कब्ज़ की समस्या है तो उसके लिए शाम के समय 10 मुनक्कों को साफ़ धोकर  एक  गिलास दूध में उबाल लें फिर रात को सोते  समय  इसके बीज निकल दें और मुनक्के खा लें तथा ऊपर से गर्म दूध पी लें , १इस प्रयोग को नियमित करने से लाभ स्वयं महसूस करें | इस प्रयोग से यदि किसी को दस्त होने लगें तो मुनक्के लेना बंद कर दें |  


6) -  मुनक्के के सेवन से कमजोरी मिट जाती है और शरीर पुष्ट हो जाता है |

7) -  मुनक्के में लौह तत्व [ Iron ] की मात्रा अधिक होने के कारण यह [ Heamoglobin ] खून के लाल कण को बढ़ाता है अतः रंग को है |

8) -  4-5 मुनक्के पानी में भिगोकर खाने से चक्कर आने बंद हो जाते हैं |

9) - 10 – 12 मुनक्के धोकर रात को पानी में भिगो दे ! सुबह बीज निकलकर  -  चबा-चबाकर खाने से खून साफ़ होता है तथा नकसीर में भी लाभ होता है !

10) -  5 मुनक्के बीज निकलकर तवे पर भुन ले तथा उनमे काली मिर्च का चूर्ण मिला ले ! इन्हें कुछ देर चूस कर चबा ले, खांसी में लाभ होगा !

11) - बच्चे यदि बिस्तर में पेशाब करते हो तो उन्हें २ मुनक्के बीज निकालकर व् उनमे एक – एक काली मिर्च डालकर रात को सोने से पहले खिला दे ! यह प्रयोग लगातार दो हप्तो तक करे, लाभ होगा !

12) -  पुराने बुखार के बाद जब भूख लगनी बंद हो जाये, तब 10 – 20 मुनक्के भुन कर सेंधा नमक व् काली मिर्च मिलाकर खाने से भूख बढती है !

Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email