भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग कई बिमारियों से ग्रस्त हो गये हैं उनमें से एक बवासीर भी है आप इसे बवासीर या हैमरॉइड या तो पाइल्स के नाम से जानते हैं। यह कई प्रकार की होती है जैसे
आइये इसे अच्छे से जानते हैं:

मलद्वार के अंत में जो शिरायें हैं उनमें सूजन आने के कारण या बढ़ जाने को ही बवासीर कहते हैं। यह बवासीर को देखा जाये तो सेफेद रंग की मूली के जड़ के जैसी फेली हुई होती है। जो की मांस पेशी में अच्छी पकड़ के साथ होती है जिससे मल को त्यागने में बड़ी कठिनाई होती है कोई भी शीरा टाईट होकर किसी जगह से हटता है तो बहुत दर्द होता है और खून मल के साथ बाहर आने लगता है, कभी थेड़ा आता है और कभी ज्यादा आता है, आपको पता नहीं चलेगा और खनू गिरता रहेगा
ये बवासीर है यह कभी अपने आप ठिक होजाती है कभी ज्यादा बढ़ जाती है। कभी आप ऑपरेशन करवाते हैं तो कभी कबार कुछ हिस्सा अंदर छूट जाता है और वह फिर से बवासीर का रूप लेलेता है।

चंदा हैल्थ आपके लिये लाया है बवासीर का घरेलू और आसान इलाज जो कुछ ही समय में आपकी किसी भी प्रकार की बवासीर को तुरंत ठिक कर देगा चोहे वो खूनी बवासीर हो या बादी बवासीर

पान का पत्ता - हां दोस्तों पान का पत्ता ही ऐक ऐसी दवा है जो कि बवासीर को बड़ी की आसानी से ठीक करने की छमता रखता है।

आईये जानते हैं कैसे इस्तेमाल करना है:

4 या 5 पान का पत्ता कम पड़े तो कुछ और, इन सबको सील पर पीसें बीना पानी के जब यह पीस जाये तो इसे इकट्ठा करके लोई के जैसी बना लें और इसे अपने मलद्वार पर लगायें, आप इसे दबाकर रखें इसके रस से आपको फायदा पहुंचेगा, आप इसे लगाकर लंगोट पहनलें या टाईट कच्छा जिससे ये गिरे ना, इसे लगाने के बाद आपको मल द्वार पर चुनचुनाहट सी महसूस होगी आप घबरायें नहीं यह काम कर रहा है आप इसका प्रयोग 4 से 5 दिन करें आपकी बवासीर खत्म आपको पहले दूसरे दिन में ही काफी आराम मालूम पड़ जायेगा। दोस्तों यह उपाय किसी दूसरे जरूरत मंद को बतायें जिससे उस का फायदा होगा। कहीं वह महंगी फीस के चलते बवासीर का इलाज ना करा पा रहा हो और इस तकलीफ से जूझ रहा हो तो उसके बहुत काम आयेगी और आपका एहसान मानेगा।


Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email