रोजमर्रा के जीवन में लापरवाही के चलते छोटी-मोटी चोट लगना एक नॉर्मल बात है। लेकिन चोट छोटी या बड़ी नहीं होती, बल्कि चोट, चोट होती है। जिसका सही उपचार न करने पर वह गंभीर समस्‍या बन जाती है। चोट लगने या जलने के घाव को भरने के लिए आप कोई उपचार करें या न करें, लेकिन चोट लगते ही शरीर घाव भरने का काम शुरू कर देता है। यानी छोटी-मोटी खरोंचे तो शरीर खुद ही ठीक कर लेता है लेकिन घाव अगर बड़ा हो जाये तो उसको भरने के लिए हमें कुछ उपाय करके शरीर के काम में मदद करनी पड़ती है। आज हम घाव जल्‍दी भरने का सबसे अच्‍छा घरेलू उपाय बताने जा रहे हैं।

घाव भरने में मददगार है चीनी

चीनी के माध्‍यम से चिकित्‍सा एक बहुत ही पुरानी परंपरा है। घाव को तेजी से भरने के लिए चीनी एक बहुत ही अच्‍छा उपाय है। किसी भी खुले घाव जैसे, जलने, छिलने और डायबिटीक अल्‍सर के कारण होने वाले घावों को भरने के लिए चीनी बहुत उपयोगी होती है।

जब घाव को दूर करने के लिए चीनी का उपयोग किया जाता है, तो अत्‍यधिक केंद्रित माध्‍यम होने के कारण बैक्‍टीरिया मारने में मदद‍ मिलती है। चीनी सूजन को कम करने, ऊतकों को प्रोत्‍साहित करने और संयोजी ऊतक और नई रक्‍त वाहिकाओं के गठन को बढ़ावा देती है। जख्मों पर चीनी का उपयोग करने का एक फायदा यह भी है कि यह निशान को बहुत कम कर तेजी से उपचार करता है। आइए जानें घाव को तेजी से भरने के लिए चीनी का उपयोग करने के उपाय।

स्‍टेप- 1

घाव को साबुन और गर्म पानी की मदद से अच्‍छी तरह से साफ करें। फिर इसे सुखने के लिए छोड़ दें ताकी इसमें बिल्‍कुल भी नमी न रहें। अगर घाव के आस-पास कुछ दिखाई दें तो फिर से इसे साफ कर लें।

स्‍टेप-2

घाव पर चीनी डालें, लेकिन ध्‍यान रहें कि यह घाव पर ही डालें। लेकिन अगर घाव बड़ा है तो इसे पहले शहद से कवर करें और फिर चीनी छिड़कें। शहद चीनी को उस जगह पर टिके रहने में मदद करती है और इसे पूरी चिकित्‍सा के लाभ प्रदान करता है।

स्‍टेप- 3

बैडेंज की मदद से इसे तुरंत कवर करें और टेप की मदद से बैडेंज को सुरक्षित करें। बैडेंज घाव में डस्‍ट और बैक्‍टीरिया को आने से रोकने में मदद करता है।

स्‍टेप-4

बैंडेज को बदलें और एक दिन के बाद फिर से सफाई और चीनी को लगाने की प्रक्रिया को दोहराये। बैंडेज को धीरे से निकालने की बजाय हल्‍का सा खींच कर निकालें। बैंडेज निकालने का यह तरीका मृत ऊतकों को हटाने और घाव को साफ करने में मदद करता है।

स्‍टेप -5

इस उपाय को करने में निरतंरता बनाये रखें, क्‍योंकि चीनी चिकित्‍सा एक धीमी प्रक्रिया है और गंभीर घावों को ठीक होने में कई महीने लग सकते हैं। हालांकि आपको तुरंत सकारात्‍मक परिणाम दिखने शुरू हो जाते हैं क्‍योंकि चीनी दर्द को कम करने और घाव और आसपास के ऊतकों को ठीक करने में लग जाती है।

सावधानी

चीनी के स्‍थान पर शहद का इस्‍तेमाल किया जा सकता है, लेकिन चीनी कम खर्चीला उपाय है। चीनी और शहद का उपयोग मधुमेह जख्‍मों पर पूरी तरह से सुरक्षित है क्‍योंकि यह ब्‍लड में प्रवेश नहीं करता। यह फोड़े, दानों और फुंसियों पर काम नहीं करता क्‍योंकि यह त्‍वचा से कवर होते हैं। इसके अलावा चीनी का इस्‍तेमाल ब्‍लीडिंग घाव पर नहीं करना चाहिए क्‍योंकि इससे ब्‍लड के बहाव को बढ़ावा देता है।  


Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email