अश्वगंधा का दवा के रूप में सैकड़ों वर्षों से उपयोग किया जाता रहा है. अश्वगंधा में अनेक चमत्कारी गुण हैं, और कई परेशानियों में यह आश्चर्यजनक रूप से लाभकारी है. अश्वगंधा का आयुर्वेद में बहुत ज्यादा उपयोग किया जाता है. इसका सही मात्रा में उपयोग करना कई मामलों में फायदेमंद है, लेकिन साथ हीं एक सीमा तक हीं इसका उपयोग करना चाहिए. तो आइए जानते हैं कि अश्वगंधा के प्रमुख फायदे कौन-कौन से हैं. अश्वगंधा के फायदे :
अश्वगंधा के सेवन से Sex Power बढ़ती है. वीर्य की गुणवत्ता बढ़ती है और वीर्य ज्यादा मात्रा में बनता है.
जिन लोगों को हमेशा आलस्य महसूस होता रहता है, अश्वगंधा उनके लिए बहुत फायदेमंद होता है. इसके सेवन से आलस्य खत्म हो जाता है.
जो लोग सम्भोग के दौरान जल्दी थक जाते हैं, यह उनके लिए भी एक बहुत हीं प्रभावशाली औषधी है.
अश्वगंधा Anti Aging दवा है, यह उम्र को नियंत्रित रखने में आपकी मदद करता है. जिससे व्यक्ति जल्दी बुढ़ा नहीं होता है. अर्थात इसके सेवन करने से समय से पहले बुढ़ापा नहीं आता है.
यह मन को शांत करता है और और सहनशक्ति में वृद्धि करता है.
यह हमारे शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता भी बढ़ाता है.
यदि आपको अनिंद्रा की शिकायत है, तो अश्वगंधा आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा.
अश्वगंधा के सेवन से गठिया का दर्द खत्म हो जाता है.
अश्वगंधा ब्लडप्रेशर को नियन्त्रण में रखता है.
और इसे खाने से तनाव भी कम होता है.
यह डायबीटीज में भी आपको काफी फायदा पहुंचाता है.
अश्वगंधा पाचन तन्त्र के लिए भी बहुत अच्छा होता है.
अश्वगंधा शरीर में आयरन को बढ़ा देता है. हर दिन तीन बार 1-1 gram सेवन करने से शरीर में खून की मात्रा बढ़ जाती है.
इसे खाने से बालों का कालापन बढ़ जाता है.
इससे महिलाओं की प्रजनन क्षमता बढ़ जाती है.
जिन स्त्रियों की योनी से सफेद चिपचिपा पदार्थ निकलता है, उन्हें भी अश्वगंधा खाने से बहुत फायदा पहुंचाता है.
टीबी में भी अश्वगंधा बहुत फायदा पहुंचाता है.
अश्वगंधा याददाश्त में भी फायदा पहुंचाता है.
अश्वगंधा के कुछ नुकसान
अश्वगंधा के ज्यादा सेवन से ज्यादा नींद आती है.
जिन लोगों को अल्सर की समस्या हो उन्हें खाली पेट में या केवल अश्वगंधा कभी नहीं खाना चाहिए.
किसी बीमारी के समय भी अश्वगंधा का सेवन कर रहें हों, तो यह दूसरे दवाओं के असर को क्षीण कर सकता है.
जिन लोगों को अश्वगंधा खाने से बुखार हो जाता हो, उन्हें अश्वगंधा नहीं खाना चाहिए.
गर्भवती स्त्रियों को अश्वगंधा का सेवन नहीं करना चाहिए.
उन स्त्रियों को भी अश्वगंधा का सेवन नहीं करना चाहिये, जो अपने बच्चे को स्तनपान करा रही हों.
Note – अश्वगंधा के प्रयोग से पहले डॉक्टर की सलाह जरुर लें, अन्यथा यह आपको नुकसान भी पहुँचा सकता है.

Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email