सर्दियां आते ही त्वचा फटने लगती है। इसमें सबसे ज्यादा समस्या रहती है फटी एड़ियों की। इसकी वजह से लड़कियां अपनी पसंद के सैंडल नहीं पहन पातीं। यहां तक की कभी-कभी ये समस्या इतना भयंकर रूप ले लेती है कि पैरों से खून तक आने लगता है। अगर आप भी इस समस्या से जूझ रहे हैं तो ये नुस्खे आपके लिए कारगर हो सकते हैं।

नारियल का तेल

रात को सोने से पहले गुनगुने पानी से अच्छी तरह पैरों को धो लें। इसके बाद पैरों को पोंछकर उन पर नारियल तेल लगाएं और कॉटन के मोजे पहनकर सो जाएं। सुबह उठने के बाद मोजे उतारें और पैरों को धो लें। ऐसा रोज करें जब तक एड़ियां कोमल ना हो जाएं। नारियल के तेल की जगह जैतून का तेल भी इस्तेमाल कर सकते हैं।


सेंधा नमक

पैरों की देखभाल करने का यह सबसे आसान तरीका है। इसके लिए गर्म पानी में सेंधा नमक मिलाएं और उसमें पैरों को डालें। दस मिनट बाद प्यूमिक स्टोन से स्क्रब करें और फिर से पानी में पैर डाल लें। थोड़ी देर बाद पैरों को बाहर निकालें और उन पर पेट्रोलियम जैली लगाएं। ऐसा करने से जल्द ही असर दिखाई देगा। 


शहद

शहद से पैर मॉश्चराइज होते हैं। इसे इस्तेमाल करने के लिए हल्के गर्म पानी में आधा कप शहद मिलाएं और उसमें पैरों को डुबोएं। बीस मिनट बाद पैरों को बाहर निकालें और तौलिए से पोछें।


गुलाब जल और ग्लिसरीन

यह एड़ियों को कोमल बनाने के लिए सबसे अच्छे उपाय में से एक माना जाता है। तीन चौथाई गुलाब जल में एक चौथाई ग्लिसरीन मिलाएं। अब इस मिश्रण को एड़ियों पर मलें और थोड़ी देर बाद गुनगुने पानी से इसे धो लें। कुछ दिनों तक ऐसा करने से फर्क पड़ेगा।


चावल का आटा

आप फटी एड़ियां ठीक करने के लिए चावल के आटे से बने स्क्रब का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए एक मुट्ठी चावल में सेब का सिरका और जैतून के तेल को मिलाकर पेस्ट बना लें। अब हल्के गर्म पानी में दस मिनट तक पैरों को डुबोएं और पोंछने के बाद इस पेस्ट को लगा लें।



Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email