1. त्रिकूट -सोठ, पीपल और काली मिर्च के सम्भाग के मिश्रण को त्रिकूट कहते है।
2. त्रिफला - आँवला, हर्र और बहेड़ा के सम्भाग के मिश्रण को त्रिफला कहते है।
3. त्रिकंटक - कटेली,हमसा और गोखरू के सम्भाग को त्रिकंटक कहते है।
4. त्रिमद - वायविंडग,नागरमोथा और चित्रक के सम्भाग को त्रिमद कहते है।
5. त्रिजात - दालचीनी,तेजपत्रऔर इलायची को त्रिजात कहते है।
6. त्रिलवण - सेंधा नमक,काला नमक और विडनमक को त्रिलवण कहते है।
7. क्षारत्रय -यवक्षार,सज्जीखार और सुहाग को क्षारत्रय लहते है।
8 . मधुत्रय - न्यूनधिक मात्र में एकत्रर मिले हुए घृत,मधु तथा गुड़ को मधुत्रय कहते है।
9 . त्रिगन्ध - गन्धक, हरताल और मैनसिल को त्रिगन्ध कहते है।

Categories

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । यहाँ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी https://desinushkhe.blogspot.in/ की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
Powered by Blogger.

Follow by Email